Search This Blog

Sunday, 26 March 2017

तुम्हारा एहसास

खामोशियों में भी
दूरियों में भी
कुछ तड़पता है
कुछ कसकता है
वो न हो कही भी
फिर भी
हर साँस के साथ उनको
महसूस करते है
जैसे महसूस होती है हवा
अदृश्य प्राणवायु की तरह
जैसे महसूस करते है
अपने रब्ब के वजूद को
खुली बंद पलकों में
जैसे महसूस करते है
धड़कते हुए सीने को
वैसे ही चलती साँसों के
साथ उनको महसूस
कर सकते है
अपने एहसासों से छू
जाते है वो हर लम्हा
जैसे सूरज धरती को
चूमता है धूप बनकर
जैसे चाँद लिपटता है
रात से अपनी श्वेत
किरणों का दुशाला लिए
वैसे ही उनका एहसास
बादलों की तरह
मेरे जेहन के आसमां को घेरे
 हर पल हर घडी़
अपनी मुस्कान मे
तड़प मे बहते अश्कों मे
मचलते जज़्बातों मे
उनका एहसास बस
उनको महसूस करते है

        #श्वेता🍁